ads

सेहत का खजाना मूंगफली का दाना |Health Treasures of Peanut


 सर्द‍ियों में मूंगफली खाने का अपना मजा है। वैसे इसके फायदों को देखते हुए इसे सस्‍ते बादाम कहा जाता है। साथ ही जानें अंडे और चिकन से किस मामले में बेहतर है.

घर घर एवं दुकानों में  मिलने वाली मूंगफली एक आम मेवा है, पर यह जितनी आम है उतनी अपने गुणों के कारण खास है | सर्दियों में तो यह किसी औषधि से कम नहीं | यह मात्र ताकत ही नहीं देती बल्कि हमें सर्दी से भी बचाती है | आइये जानें मूंगफली के विभिन्न उपयोगों एवं लाभों को |

वैसे तो हमारे देश में मूंगफली को लोग बड़े चाव से खाते हैं फिर चाहे वह मीठे पकवान हों या फिर नमकीन, क्यूंकि मूंगफली सेहत का खजाना है| यह वनस्पति प्रोटीन का एक सस्ता स्त्रोत भी है |

 मूंगफली आयरन,नियासिन, कैल्शियम और ज़िंक का अच्छा स्त्रोत है | थोड़े से मूंगफली के दानों में 426  कैलोरीज़, 5 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 17 ग्राम प्रोटीन और 35 ग्राम वसा होती है | 

इसमें भरपूर  मात्रा में विटामिन E , K  और B6  भी पाए जाते है | लेकिन कुछ लोगो को ही पता होगा कि यह स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद है | अधिकांश  तो इसे स्वाद के लिए ही खाते हैं | पर यकीन मानिए इससे होने वाले फायदे जानकर आप भी चौंक जाएंगे,

इसमें प्रोटीन की मात्रा मांस की तुलना में १.३ गुना, अण्डो से २.५ गुना एवं फलो से ८ गुना अधिक होती हैं। क्‍या आप जानते हैं कि 100 ग्राम कच्ची मूंगफली में 1 लीटर दूध के बराबर प्रोटीन होता है। मूँगफली में प्रोटीन की मात्रा 25 प्रतिशत से भी अधिक होती है। साथ ही मूंगफली पाचन शक्ति बढ़ाने में भी कारगर है। 250 ग्राम भूनी मूंगफली में जितनी मात्रा में खनिज और विटामिन पाए जाते हैं, वो 250 ग्राम मांस से भी प्राप्त नहीं हो सकता है।

Nutrition Facts of moongfali (Peanuts)

*Per cent Daily Values are based on a 2,000 calorie diet. Your daily values may be higher or lower depending on your calorie needs.

 

 

मूंगफली खाने के फायदे -

  • मूंगफली में मौजूद तत्व पेट से जुडी कई समस्याओं में राहत प्रदान करता है | इसके नियमित सेवन से कब्ज की समस्या नहीं होती है | साथ ही गैस व् एसिडिटी का समस्या से भी राहत मिलती है | 
  • मूंगफली गीली खांसी में भी उपयोगी है,  नियमित सेवन से आमाशय और फेफड़ो को मजबूती मिलती है, यह पाचन-शक्ति को बढाती है और भूख न लगने की समस्या भी दूर करती है | 
  • गर्भवती स्त्रियों के लिए मूंगफली का नियमित सेवन बहुत फायदेमंद होता है, यह गर्भावस्था में शिशु के विकास में मदद करती है | 
  •  एक स्टडी के मुताबिक, जिन लोगों के रक्त में ट्राइग्लाइसेराइड का लेवल अधिक होता है, वे अगर मूंगफली खाएं, तो उनके ब्लड के लिपिड लेवल में ट्राइग्लाइसेराइड का लेवल 10.2 फीसदी कम हो जाता है।
  • मूंगफली में ओमेगा 6 की मात्रा भरपूर होती है, जो त्वचा कोमल और नम बने रखता है और कई लोग मूंगफली के पेस्ट का इस्तेमाल फेसपैक के तौर पर भी करते है | 
  • मूंगफली कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नियंत्रित करने में अहम भूमिका निभाती है, एक शोध से यह भी पता चला है कि सप्ताह में 5 दिन मूंगफली कुछ दाने खाने से दिल  बीमारियां होने का खतरा कम रहता है | 
  • खाने के बाद यदि 50 या 100 ग्राम मूंगफली के दाने रोजाना खाई जाय तो सेहत बनती है, भोजन पचता है, शरीर में खून की कमी नहीं होती है | 
  • मूंगफली के दानों में प्रोटीन, लाभदायक वसा, फाइबर, खनिज, विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाए जाते है, इसके सेवन से स्किन उम्र भर जवां दिखाई देती है | 
  • मूंगफली में कैल्शियम और विटामिन D भरपूर मात्रा में पाया है, इसे खाने से हड्डियां मजबूत होतीं है |
  • रोजाना कच्ची मूंगफली खाने से दूध पिलाने वाली स्त्रियों में दूध बढ़ता है।
  • मूंगफली खाने से दिमाग भी फिट रहता है |
  • सर्दियों में मूंगफली के तेल की मालिश करने और मूंगफली खाने से त्वचा कोमल रहती है और सूखी ठंडी हवा से हाथ-पैर नहीं फटते है ।

सेहत से भरपूर मूंगफली का तेल -

 जिस प्रकार मूंगफली के दाने आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी और फायदेमंद है। उसी प्रकार मूंगफली के तेल का इस्तेमाल भी हमें कई रोगो की समस्याओं से छुटकारा दिलाने में सहायक है।  मूंगफली का तेल अन्य तेलों की अपेक्षा बहुत ही लाभकारी होता है। इसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व होते है ,जो स्वास्थ्य की द्रिष्टि से काफी फायदेमंद होते हैं। मूंगफली के तेल में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को घटाने,दिल को स्वास्थ्य रखने तथा पाचन-क्रिया को दुरुस्त बनाए रखने के गुण होते है। मूंगफली के तेल से होने वाले लाभ इस प्रकार है।

 पेट की समस्या से निजात-

मूंगफली के तेल का उपयोग कर आप पेट की समस्याओ से छुटकारा पा सकते है। जैसे- कब्ज, पाचन-क्रिया, डायरिया आदि रोगों से निजात मिल जाती है। इसलिए अगर आप पेट की समस्या से परेशान है तो अपने आहार में मूंगफली के तेल का इस्तेमाल करें।

बालों के लिए फायदेमंद-
मूंगफली के तेल बालो के लिए भी काफी फायदेमंद है। यह बालों को पर्याप्त पोषण प्रदान करता है। इसके इस्तेमाल से दो मुँहे बालों की समस्या खत्म हो जाती है। इसके साथ-साथ यह रुसी हटाने के लिए भी कारगर है। अगर आपके बालों में रुसी है तो मूंगफली का तेल लगाएं, दो से तीन घंटे तक वाश न करे।

दानों का उपचार -
त्वचा की समस्याओं को भी यह तेल ठीक करने में सहायक है। मूंगफली के तेल में 2 -3 बूंदे नींबू का रस मिलाकर लगाने से शरीर पर निकले दानों का उपचार हो जाता है। 

एरोमाथेरेपी-

मूंगफली के तेल एरोमाथेरेपी में भी इस्तेमाल किया जाता है।मूंगफली के तेल इस्तेमाल से मसाज और वार्म बाथ करने से त्वचा में निखार व् दमक आ जाती है। 

रूखी त्वचा और झुर्रियों से छुटकारा-
मूंगफली के तेल को रूखी त्वचा के उपचार के लिए भी उपयोग किया जा सकता है। यह त्वचा को नमी प्रदान कर झुर्रियों को कम करने में सहायता प्रदान करता है। यह एक प्रकार का नेचुरल स्किन केयर होता है। ड्राई स्किन पर इस पेस्ट को लगाने से काफी आराम मिलता है। 

  


डाइबिटीज में सहायक-

जिन भी लोगो को डाइबिटीज की शिकायत है। उन्हें मूंगफली के तेल का उपयोग करना चाहिये। इस तेल का सेवन करने से शरीर में इंसुलिन की प्रयाप्त मात्रा बनी रहती है। इसी के साथ खून में ग्लूकोस का स्तर नियंत्रित रहता है।
दिल को रखे दरुस्त-
मूंगफली का तेल हृदय से जुडी कई बिमारियों से दूर रखता है। दरअसल यह धमनियों में खून का प्रवाह सुचारु रूप से करता है। इसी के साथ ये हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में भी मददगार साबित हुआ है।
दर्द से राहत-

जोड़ों के दर्द होने पर मूंगफली के तेल की मसाज करने से काफी आराम मिलता है। इसे हल्का-सा गुनगुना गर्म कर मालिश करने से भी लाभ होता है। आप चाहें तो इसमें लहसुन व् मेथीदाना डालकर भी इस्तेमाल कर सकते है। 
मोटापे से निजात-

मोटापे की समस्या को दूर करने में मूंगफली का तेल लाभदायक है। आपको बता दें कि मूंगफली के तेल शरीर में वसा को नियंत्रित रखने में सहायता करता है। ये ऐसा है, जो वजन को बढ़ाता नहीं,बल्कि कम करता है। इसके अलावा इसमें फैटी एसिड संतुलित मात्रा में होता है, जिससे फैट ज्यादा नहीं बढ़ता है।
दिल को बनाएं स्वस्थ्य-

मूंगफली के तेल के सेवन से कोरोनरी ऑर्टरी डिसीज नहीं होती है और नाड़ियों में ब्लड फ्लो अच्छे से होता है। मूंगफली के तेल में मोनोअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (MUFA ) भरपूर मात्रा में होता है,जिसके कारण शरीर में फैट की मात्रा बहुत ज्यादा नहीं पहुंच पाती और बैड कोलेस्ट्रॉल भी शरीर में नहीं पहुंचता है। 

रक्तचाप -

उच्च रक्तचाप की समस्या के लिए भी मूंगफली का तेल काफी फायदेमंद माना जाता है। इसमें असंतृप्त वसा होता है, जो उच्च रक्तचाप से बचने में हमारी मदद करता है, साथ ही दिल की रक्षा करता है।

 फटे होंठो के लिए उपाय
 

  •  नहाने से पहले हथेली में चौथाई चम्मच मूंगफली का तेल लेकर अँगुली से हथेली में रगड़े और फिर होंठों पर इस तेल की मालिश करें। इससे होंठ ना सिर्फ नरम होंगे बल्कि उनकी कुदरती चमक भी बढ़ेगी |
  • हाथ, पैर और जोड़ों के दर्द में भी मूंगफली का तेल लाभ पहुँचाता है। मूंगफली के तेल से शरीर की मालिश करने पर मांस पेशियाँ मजबूत होती है और दर्द से भी आराम मिलता है।
  • मूंगफली के तेल को गुनगुना करके मालिश करने से दाद, खाज, खुजली आदि त्वचा रोग भी ठीक होते है।

मूंगफली खाने के तरीके

  • मूंगफली को आप भोजन के साथ, जैसे सब्जी, खीर, खिचड़ी आदि में डालकर रोजाना खा सकते है, इसके अतिरिक्त आप इसे चटनी के रूप में और बादामजीर की तरह इसका पेय बनाकर भी पी सकते है
  • मूंगफली में रसायन आर्जिनाइन नामक एमीनो अम्ल बहुतायत में पाया जाता है जो टी.बी. की बीमारी को दूर करने में काफी लाभदायक है इससे तेज खाँसी जैसे लक्षणों में जल्दी सुधार देखा गया। टी.बी. के रोगियों को प्रतिदिन मूंगफली खाने से विशेष लाभ होता है ।
  • जिन लोगो को पित्त, हाई बी पी, या अधिक गर्मी की शिकायत हो वो लोग मूंगफली का अधिक सेवन ना करें |

 मूंगफली भिगोकर खाने के फायदे
 


  • इससे पित्त नहीं बढ़ता है, चूँकि मूंगफली की तासीर गर्म होती है इसलिए पानी में भिगोने गर्मी कुछ कम हो जाती है कुछ लोगो को ज्यादा गर्म चीजे खाने से एलर्जी होती है इसलिए उन लोगों को खासतौर से मूंगफली के दाने छह सात घंटे भिगोकर खाने चाहिए |
  •  आप चाहे तो इन भीगे हुए दानो को दही और नारियल के साथ मिलाकर मूंगफली की चटनी भी बनाकर खा सकते है |
  • मूंगफली खाने से डायबिटीजके मरीज को भी फायदा होता है इससे मधुमेह में भी एनर्जी बरकरार रहती है
  • खाना खाने से कुछ समय पहले थोड़ी सी भुनी हुई मूंगफली बिना चीनी की चाय या कॉफी के साथ ली जाए तो भूख जल्दी शांत हो जाती है और व्यक्ति कम खाना खाता है। और इस तरह शरीर का वजन धीरे-धीरे कम होने लगता है।
  • यदि आपकी त्वचा में सूखापन और सूखापन है तो जरा-सा मूंगफली का तेल, दूध और गुलाबजल मिलाकर मालिश करें। बीस मिनट बाद नहा लें। इससे त्वचा का सूखापन ठीक हो जायेगा।

मूंगफली से होने वाले नुकसान:-

एलर्जी- सेन्सिटिव स्किन के लिए भी मूँगफली बहुत की घातक होती हैं। मूँह में खुजली, चेहरे और गले में सूजन आदि इसके एलर्जी के ही रिज़ल्ट हैं। 

अस्थमा  - और तो और कई बार साँस लेने में परेशानी, अस्थमा अटैक भी हो सकता हैं। इसलिए जैसे ही किसी एलर्जी का आभास हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे और इसके ठीक होने तक किसी भी ड्राइ फ्रूट का सेवन ना करे।
खांसी- मूँगफली के दानो को खाने के बाद कभी भी तुरंत पानी ना पिए। ऐसा करने से खाँसी की समस्या हो सकती है। ध्यान रखें ज्यादा मात्रा में मूंगफली आपके शरीर को नुकसान पहुंचा सकती है। 

हार्ट- नमक या तली मूंगफली दिल व बीपी के मरीजों को नहीं खानी चाहिए। बहुत अधिक मूंगफली खाने से शरीर में पित्त की मात्रा अधिक हो जाती है

थाइरोइड- थाइरोइड रोगियों को मूंगफली सेवन नहीं करना चाहिए. इसमें पाए जाने वाला Goitrogens नामक तत्व थाइरोइड ग्रन्थि की प्रक्रिया असंतुलित कर सकता है.

 मोटापा- मूंगफली एक हाई कैलोरी युक्त बीज है, इसके अधिक सेवन से मोटापा भी हो सकता है, अतः संतुलित मात्रा में ही इसे खाएं. किडनी या गाल ब्लैडर के रोगी भी मूंगफली सेवन न करें.

Post a Comment

0 Comments